30.5.20

कवि संगीत कुमार वर्णबाल की कविता - '' थोड़ा सा क्या लौकडाउन में ढील हुआ ''













थोड़ा सा क्या लौकडाउन में ढील हुआ


थोड़ा सा क्या लौकडाउन में ढील हुआ
लोग सड़क पर उतर पड़े ।
न मास्क का वो ध्यान रखे
न दूरी का ही ख्याल किये ।
यूं ही अनमने सब घूम रहें
थोड़ा सा क्या लौकडाउन में ढील हुआ 

फेरीवाला सामान घूम - घूम बेच रहा
लोग खरीदने टूट पड़े ।
बड़े - बूढे न समझ रहे
न कोरोना का परवाह किया ।
थोड़ा सा क्या लौकडाउन में ढील हुआ 

मत समझ कि काल अब चला गया
दुल्हन बन ओ अदृश्य खड़ी ।
जीवन अनमोल उसे बचाये रख
दूरियां एक - दूसरे से बनाये रख ।
थोड़ा सा क्या लौकडाउन में ढील हुआ 

मूर्ख बन बलवान न समझ
समझदारी से हर काम कर ।
हर काम दूरी बनाये कर
अपने जीवन की खुद परवाह कर ।
थोड़ा सा क्या लौकडाउन में ढील हुआ 

आवश्यक हो तो बाहर निकल 
बेवजह न इधर - उधर मचल ।
न कोई अपना न कोई पराया          
अपनों का सब ध्यान कर अलख मन में जगाये चल ।
थोड़ा सा क्या लौकडाउन में ढील हुआ **


        -  संगीत कुमार वर्णबाल  

                          जबलपुर 








-------------------------------------------------------------------

संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई

 माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867


   

No comments:

Post a comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |