15.5.20

पवन शर्मा की लघुकथा - '' घर - समाज ''









                      ( प्रस्तुत लघुकथा – पवन शर्मा की पुस्तक – ‘’ हम जहाँ हैं ‘’ से ली गई है )  


                               घर - समाज


सभी असहय चुप्पी से बद्ध हैं | पत्र आने से परेशान भी हैं | लिखा है कि शादी करेंगें तो छोटी वाली से - और इसी वर्ष | नहीं तो नहीं | 
          सच भी है - जब उसी की उम्र सत्ताइस की है तो दीदी तो उससे चार साल बड़ी हैं | इकत्तीस की उम्र में भी दीदी के लिए कोई लड़का नहीं मिला | दीदी बूढी दिखने लगी हैं | चेहरे का सारा लावण्य बढ़ती उम्र के साथ समाप्त होता जा रहा है | पहले तो माँ और पिताजी कहते रहे कि कम - से - कम एम.ए. तो कर ले - उम्र बीत रही थी ! फिर नौकरी का चक्कर - उम्र बीतती चली गई ! माँ और पिताजी चिंतित होते रहे | हल कुछ भी नहीं निकला |
          ' देखो , तुम इसकी पक्की कर दो | नहीं तो लड़का हाथ से निकल जाएगा | '  दीदी कहती है |
          वह चौंक जाती है | दीदी का इशारा उसकी ओर था |
          ' नहीं , पहले तेरी होगी - बाद में इसकी | नहीं तो तेरी शादी के लिए मुश्किल हो जाएगी | सभी कहेंगे - बड़ी में कोई ऐब होगा , तभी तो छोटी का विवाह पहले कर दिया है | ' पिताजी कहते हैं , फिर माँ की ओर देखते हैं |
          माँ पहले ही पिताजी को देख रही थीं |
          ' तो फिर मेरी शादी के पीछे वह भी इकत्तीस - बत्तीस की हो जाएगी | '  दीदी कहती है |
          वह चौंकती है | दीदी की ओर देखती है - दीदी के चेहरे पर दर्द की लकीर खिंचती देखती है | कहती कुछ भी नहीं | दर्द की लकीर और भी गहरी होती जाती है | **

                            - पवन शर्मा 

------------------------------------------------------------------------




--------------------------------------------------------------------------


पता
श्री नंदलाल सूद शासकीय उत्कृष्ट  विद्यालय ,
जुन्नारदेव  , जिला - छिन्दवाड़ा ( म.प्र.) 480551
फो. नं. - 9425837079 .
ईमेल – pawansharma7079@gmail.com

---------------------------------------------------------------------------


संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई

माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867

No comments:

Post a comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |