17.3.19

“ वाह – वाह है ‘‘

( कवि श्री  श्रीकृष्ण शर्मा के मुक्तक - संग्रह  - ” चाँद झील में  ‘‘  से लिया गया है - लिया गया है - )