11.7.20

कवि श्रीकृष्ण शर्मा का नवगीत - '' अपना है बचा क्या ? ''

( कवि श्रीकृष्ण शर्मा के नवगीत - संग्रह - '' एक नदी कोलाहल '' से लिया गया है )











अपना है बचा क्या ?




चल रहे हम
दूसरों के पाँव ,
अपना है बचा क्या ?


दृष्टि अपनी
दृश्य औरों के ,
कह रहे हम
गर्व से सब
कथ्य औरों के ,


छोड़ बैठे जो
उन्हीं पर आजमाते
हम उन्हीं के दाँव ,
अपना है बचा क्या ?


प्रश्न हैं
पर नहीं उत्तर हैं ,
बिक रहे जो
जिन्स – जैसे
शीर्ष पर हैं ;


द्वार का जो काट बरगद
तक रहे ललचा
परायी छाँव ,
अपना है बचा क्या ? **




   - श्रीकृष्ण शर्मा 






----------------------------------

संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867



10.7.20

कवि श्रीकृष्ण शर्मा का मुक्तक - '' मिले नहीं ! ''


     ( कवि श्रीकृष्ण शर्मा के मुक्तक - संग्रह - '’ चाँद झील में '' से लिया गया है )




9.7.20

कवि श्रीकृष्ण शर्मा का नवगीत - '' ख़ामोशी खड़ी है ''


( कवि श्रीकृष्ण शर्मा के नवगीत - संग्रह - '' एक नदी कोलाहल '' से लिया गया है )







ख़ामोशी खड़ी है



गया
सब कुछ गया |


रोशनी थी ,
रास्ता था ,
मधु – पगा सब वास्ता था ;


किन्तु
ख़ामोशी खड़ी है ,
ओढ़कर कुछ नया |
गया
सब कुछ गया |


दर्द है ,
हमदर्द गायब ,
मूल हक़ की फ़र्द गायब ;


जुल्मियों के
सर्द दिल में ,
क्या दया ? क्या हया ?
गया ,
सब कुछ गया | **



     - श्रीकृष्ण शर्मा 







---------------------------------


संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867

8.7.20

कवि श्रीकृष्ण शर्मा का मुक्तक - '' नारी ''


     ( कवि श्रीकृष्ण शर्मा के मुक्तक - संग्रह - '’ चाँद झील में '' से लिया गया है )



7.7.20

कवि श्रीकृष्ण शर्मा की कविता - '' अक्षरों के सेतु ''

( कवि श्रीकृष्ण शर्मा के काव्य - संग्रह - '' अक्षरों के सेतु '' से लिया गया है )












अक्षरों के सेतु


छटपटाती भावनाएँ ,
चेतना – हत कामनाएँ ,
औ’ अपाहिज – से पड़े संकल्प |


घेर कर बैठे
फरेबी – स्वार्थी – लोलुप – दरिन्दे
भेड़िये औ’ सर्प |


भूख – निर्धनता – अभावों के
विकट लाक्षागृहों में
राख होता सूर्य |


चक्रव्यूहों में फँसी
यह जिन्दगी संघर्ष – रत है ,
आत्म – रक्षा हेतु |


पर
कुचक्री सिन्धु के उस पार तक
निश्चय रचूंगा ,
अक्षरों के सेतु | **




  
    - श्रीकृष्ण शर्मा 





--------------------------------------


संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867