28.10.20

कवि श्रीकृष्ण शर्मा का दोहा - " केवल कोरे शब्द " ( भाग - 2 )

 यह दोहा , श्रीकृष्ण शर्मा की पुस्तक " मेरी छोटी आँजुरी " ( दोहा - सतसई ) से लिया गया है -




27.10.20

कवि श्रीकृष्ण शर्मा का दोहा - " केवल कोरे शब्द " ( भाग - 1 )

 यह दोहा श्रीकृष्ण शर्मा की पुस्तक - " मेरी छोटी आँजुरी " ( दोहा - सतसई ) से लिया गया है -




26.10.20

कवि श्रीकृष्ण शर्मा का नवगीत - " दीपक - सा जलता चल ! "

 श्रीकृष्ण शर्मा की पुस्तक - " अँधेरा बढ़ रहा है " ( नवगीत - संग्रह ) से लिया गया है -








दीपक – सा जलता चल !

 

              अँधियारा गहरा है ,

           दूर पर सवेरा है ,

हिम्मत मत हार अरे , दीपक – सा जलता चल !

 

अम्बर के आँगन में चाँद नहीं आया है ,

तारों का मन भी अब लगता घबराया है ,

दृष्टि फेर ली है अब , गोरी किरणों ने भी ,

उजियारा अब जैसा – बन गया पराया है ,

          मावस का पहरा है ,

          तिमिर – सिन्धु लहरा है ,

हिम्मत मत हार अरे , दीपक – सा चलता चल !

 

बदल – बदल कर त्यौरी , आ रही हवाएँ हैं ,

स्याही का कफन ओढ़ सो रही दिशाएँ हैं

व्याकुल है गगन , अवनि आकुल उजियारे को ,

लेकिन ये काजल की , बरसाती घटाएँ हैं ,

          रात की जवानी है ,

          तुझे सुबह लानी है ,

पकड़ किरण का आँचल , भोर तलक चलता चल !

हिम्मत मत हार अरे , दीपक – सा जलता चल !!

 

इन तम के पृष्ठों पर , लिख प्रकाश के अक्षर ,

सूने की स्याही में भर दे तू ज्योतिर्स्वर ,

ज्वाला का यज्ञ रचा , रात ये सिन्दूरी हो ,

दीप – दीप महक उठे , दीपों के उत्सव पर ,

          छेड़ दीप राग नवल ,

          दीपशिखा हो उज्जवल ,

रात यह सुहागिन हो , पूनम – सा खिलता चल !

हिम्मत मत हार अरे , दीपक – सा जलता चल !! **



    - श्रीकृष्ण शर्मा 





---------------------------------------------------------------------------------------------


संकलन – सुनील कुमार शर्मा , जवाहर नवोदय विद्यालय , जाट बड़ोदा , जिला – सवाई माधोपुर ( राजस्थान ) , फोन नम्बर – 9414771867.


25.10.20

कवि संगीत कुमार वर्णबाल की कविता - " जयति जय जय मॉं "











जयति जय जय मॉं 


जयति जय जय मॉं भगवती जयति  खड्ग धारणी

जयति  जय जय सिंहवाहिनी जयति शत्रु विनाशनी

जयति जय जय महिषासुर मर्दनी जयति जगत कल्यायणी

जयति जय जय आदिशक्ति स्वरूपणी जयति मंगलकारनी 

 जयति जय जय दुख दारिद्र  हरनी  जयति हर्ष मंगल प्रदायनी

जयति जय जय शक्ति दात्री मॉं जयति जगत पालनी 

जयति जय  जय विद्यादायनी मॉं जयति सर्वगुण प्रदायनी 

जयति जय  जय क्षमाकरनी मॉं जयति  ज्ञान प्रदायनी 

जयति जय जय काल हरनी मॉं जयती कालरात्रि 

जयति जय जय आशीष दात्री  मॉं जयति सिद्धिदात्री

जयति जय जय तमहरनी मॉं जयती प्रकाशदायनी 

जयति जय  जय  मॉं भवानी जयति दिव्यप्रकाशनी

जयति जय जय रोग हरनी मॉं जयति सुख प्रदायनी 

जयति जय जय  मॉं भगवती जयति  सर्व सौभाग्यदायनी

जनमानस की विनती सुनले सबके दुख दूर करदे  मॉं

जयति जय जय मॉं भगवती जयति खड्ग धारणी

जयति जय जय सिंहवाहिनी जयति शत्रु विनाशनी **

                       - संगीत कुमार वर्णबाल 

----------------------------------------------

संकलन – सुनील कुमार शर्मा , जवाहर नवोदय विद्यालय , जाट बड़ोदा , जिला – सवाई माधोपुर ( राजस्थान ) , फोन नम्बर – 9414771867.

कवि श्रीकृष्ण शर्मा का दोहा - " लिखना यदि होता सरल " ( भाग - 13 )

 श्रीकृष्ण शर्मा की पुस्तक - " मेरी छोटी आँजुरी " ( दोहा - सतसई ) से लिया गया है -