Followers

25.5.22

कवि श्रीकृष्ण शर्मा का गीत - " इससे तो था भला "

 यह गीत श्रीकृष्ण शर्मा की पुस्तक - " बोल मेरे मौन " ( गीत-संग्रह ) से लिया गया है -



 








इससे तो था भला 


इससे तो था भला मौन ही मैं रहता !!


सुनी-अनसुनी जब तुमने बातें कर दिन,

तब भी तो मैं गया सिर्फ़ अपनी कहता !

इससे तो था भला मौन ही मैं रहता !!


सच है, मैं अपनी पीड़ा में खोया था ,

तुम डूबे थे अपने सुख की यादों में,

चाह रहा था व्यथा-कथा अपनी कहता,

पर तुम फागुन थे, था सावन-भादों मैं ;


कैसे भला बात फिर बननी थी बोलो ?

सम्मुख रहकर भी गर होंठ न तुम खोलो,


ऐसी निर्ममता ? आँसू क्या, मन टूटा

कब्र सरीखा मौन और कब तक सहता ?

इससे तो था भला मौन ही मैं रहता !!  **


                                         - श्रीकृष्ण शर्मा 

----------------------------------------------


सम्पर्क - सुनील कुमार शर्मा 

फोन नंबर-  9414771867

1 comment:

  1. बहुत सुन्दर सराहनीय रचना

    ReplyDelete

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |