17.3.19

“ वाह – वाह है ‘‘

( कवि श्री  श्रीकृष्ण शर्मा के मुक्तक - संग्रह  - ” चाँद झील में  ‘‘  से लिया गया है - लिया गया है - )








No comments:

Post a comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |