27.5.20

कवि श्रीकृष्ण शर्मा की कविता - '' जिज्ञासा और उपलब्धि ''




















( कवि श्रीकृष्ण शर्मा के काव्य - संग्रह - '' अक्षरों के सेतु '' से ली गई सन 1965 में लिखित 

कविता  )


जिज्ञासा और उपलब्धि


( प्रथम सम्मेलन की अनुभूतियों को दिया गया शब्दरूप )


मेरा जिज्ञासु ह्रदय ,
पल भर को ठिठका
फिर ठहर गया |


कौतुहल था शायद ,
शायद जिज्ञासा थी ,
क्योंकि –
उस धरातल पर
शब्द बेजरूरत थे ,
अनबोला ख़ामोशी
भाषा की परिणति थी ,
भावों की भाषा थी |


अनहोना होने की आशा थी |
आह ,
तभी आकर्षण के मंत्रों से कीला
मेरा यह भावुक मन ,
लहरों के गहरे में उतर गया |


मेरा जिज्ञासु ह्रदय ,
पलभर को ठिठका
फिर ठहर गया |


अनायास
अटाटूट पानी से भरी नदी
सूने औ’ अंधे गलियारे से
लायी मुझको समेटे
शत – सहस्त्र बाँहों में ,
दिगंबरा अपरिसीम कविता के
वत्सला उजालों में ,
लज्जारुण यौवन का
छंद हो मुखर गया |


सीपी में ,
शंखों में ,
मोती औ’ मूंगों का
द्वीप - सा सँवर गया |


मेरा जिज्ञासु ह्रदय
पलभर को ठिठका
फिर ठहर गया |


अनायास
जिसमें थे जूही के फूल खिले अनगिनती ,
हरियाली छांहों में
-   -  बौरायी – सी विनती |


सौरभ ही सौरभ है ,
बिनपरसे
तन – मन औ’ प्राण में समा गया ,
मादकता का खुमार – जैसा कुछ छा गया ,
-  -  मूर्छित बन गया |


साँसों में
एक अजब गंध घुली |


छवि की वह छुअन
मूक रोशनी लहर जैसी
बाहर से भीतर तक मुझको नहला गयी ,
बावला बना गयी |
इस तन में
हुआ एक नया – नया संवेदन |


नस – नस में
विद्युत सी दौड़ गयी ,
संयम के मर्यादित पहरों को तोड़ गयी |
अंग – अंग कसा
आह , विह्वल मदमाता – सा
धन – ऋण के दो विलोम ध्रुवों को जोड़ गयी |


पाटल के दल – के – दल
तिर आये बाँहों में ,
इन्द्रधनुष उग आये
उम्र की निगाहों में |


डूब गया
तन में तन
तृषित और आकांक्षित
मेरा रसभीगा मन ,
चंदन की घाटी में उतर गया |


मेरा जिज्ञासु ह्रदय ,
पल – भर को ठिठका
फिर ठहर गया |


ये ही क्षण –
अमृत के बीजों को बोते हैं ,
ये ही क्षण –
जीवन में मधुरता सँजोते हैं ,
ये ही क्षण –
सिरज रहे तुलसी औ’ कालिदास
ये ही क्षण –
आत्मप्रभ ज्ञान – दीप होते हैं |
ये ही क्षण असंयम के
ये ही क्षण अमर्यादित
-  - पूजित हो पुण्य हुए |


मुझको
जो परम्परा प्राप्त हुई
जीवन की
अपने से आगे वह मैंने बढ़ाने को ,
-   - प्राणों से प्राण रचे
पितृ - ऋण चुकाने को |


सार्थक
औ’ पूर्णकाम
मेरा यह पिण्ड हुआ
देह – प्राण धन्य हुए |


मेरा विचारक मन
संशय से परे
दिव्य भावों से भर गया |


मेरा जिज्ञासु ह्रदय
पल भर को ठिठका
फिर ठहर गया | **

           - श्रीकृष्ण शर्मा 
-----------------------------------------

संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई

 माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867


    



  

5 comments:

  1. नमस्ते,

    आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में गुरुवार 28 मई 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. आपने इस रचना को '' पाँच लिंकों का आनंद '' में 28 मई को साझा की है , इसके लिए आपको बहुत - बहुत धन्यवाद | मैं बिल्कुल इस अवसर का साहित्यिक रूप से लाभ उठाऊंगा |

    ReplyDelete
  3. उत्कृष्ट रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद पम्मी जी |

      Delete

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |