31.5.20

कवि श्रीकृष्ण शर्मा की कविता - '' तुम बिन अधूरा मैं ! ''

( कवि श्रीकृष्ण शर्मा के काव्य - संग्रह - '' अक्षरों के सेतु '' से ली गई , 1966 में रचित रचना )
















तुम बिन अधूरा मैं !

ओ मेरे परिचय ,
मैं तुमसे बिछुड़ करके
बन गया स्वयं को ही
आज एक अजनबी हूँ !


मेरे दृग ,
दृष्टि की तुम्हारी परिधियों से
दूर हुआ मैं
सब कुछ देख कुछ न देखता |


ओ मेरे स्वर ,
तुमसे वंचित मैं आज यहाँ
सब कुछ सुन रहा
मगर कुछ न सुनाई पड़ता |


शब्दों का बोझ लिये
मैं अब भी शब्दहीन
- अर्थ नहीं बन पाया |
आत्मलीन होकर भी
भावों के अँधियारे
गलियारों के उन
गुलाबों की छवि को मैं
इस क्षण तक
अपने इन गीतों के रेशम में
- बाँध नहीं पाया |


अब भी –
अतीत के
वे बिम्ब पारदर्शी सब
तुमने जो
मेरे इन प्राणों पर छोड़ दिये
- बेहद ही उजले हैं ,
उनके वे रंग
अभी धुँधले पड़े नहीं !


हरदम –
वे पगडंडी ,
सीढ़ी के वे घुमाव ,
घर के कोने – अंतरे ,
आँगन की तुलसी ,
दीवारों के लेखचित्र ,
स्नेह – भरी आँखें वे ,
ममता से बढ़ी बाँह ,
आशंकित उत्सुकता ,
भार बना संयम ,
- वे सब कुछ हैं अब तक भी
मेरे सँग यहीं कहीं !


उन गुजरी राहों में
मेरा मन अटका है ,
और पाँव घिसट रहे
मौजूदा राहों में !


तुम बिन
मैं आधा हूँ
तुम बिन अधूरा मैं
कब तक यूँ भटकूँगा
लिए हुए एक समूचा जंगल
- बाँहों में ?


बार – बार मर कर भी
सिरजन की पीड़ा को
साँसों में ढोऊँगा ,
बीते के गालों पर
मुँह धर कर रोऊँगा ,
- मैं कब तक ?


कैसा ये खालीपन
कैसा ये भारी मन
मुझको जो अनुभावित
होता है प्रिय तुम बिन !


लगता है –
मन मैं कुछ
कहीं स्यात् टूट गया ,
जीवन का एक छोर
दूर कहीं छूट गया ,
जिससे अब भेंट नहीं
होगी शायद कभी ! **

      - श्रीकृष्ण शर्मा 

 




-----------------------------------------------

संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई 

माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867

No comments:

Post a comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |