5.5.20

डॉ रमेश कटारिया ‘’ पारस ‘’ के दोहे - '' रामायण ''













दोहे 


1-

रामायण के रूप में मिला  अपरमित  ज्ञान 
तुलसी जी नें रच दिया ऐसा ग्रन्थ महान 

2-

रामायण से मिल रहा 
हम सबको यह ज्ञान 
दोनोँ में कल्य़ाण है मरा कहो या राम 

3-

सेवा भक्ति व प्रेम का क्या सुन्दर परिमाण 
ऐसे श्री हनुमान को बारम्बार प्रणाम **


 - डॉ रमेश कटारिया ‘’ पारस ‘’ 












---------------------------------------------------------------------------------------------------------


संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई

 माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867

No comments:

Post a comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |