1.6.20

कवि श्रीकृष्ण शर्मा का मुक्तक - '' अन्तर ''



      कवि श्रीकृष्ण शर्मा के मुक्तक - संग्रह - '’ चाँद झील में '' से लिया गया है -




2 comments:

  1. शर्मा जी प्रणाम, आपने बहुत खूब ल‍िखा... चल उठता है न‍िष्प्राण च‍ित्र ..वाह

    ReplyDelete
  2. जी धन्यवाद अलकनंदा जी |

    ReplyDelete

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |