13.6.20

संगीत कुमार वर्णबाल की कविता - '' दिल का दर्द ''




संगीत कुमार वर्णबाल 










दिल का दर्द

दिल  का   दर्द  तुझे   कैसे   बताऊँ 
मन  कहता  तुझे  अपना  बना  लूँ 
उर से लगा लूँ   नैयनों  में  बसा लूँ 
अधरों  की  मुस्कान तुझपे लुटा दूँ 
दिल   का  द र्द   तुझे  कैसे  बताऊँ 

आँखों   में   अक्स   तेरा   बना  लूँ 
तेरे   लिए   तो   सबकुछ   लुटा  दूँ 
तुझे      सीने      से      लगा     लूँ 
बाँहों         में          समेट         लूँ 
दिल  का   दर्द    तुझे  कैसे  बताऊँ 

तुझे दिन में पुकारा रात में  निहारा
संग  - संग  आ  संगीत  मिल  गाऊँ
मिलजुल  संग  अब  जीवन बिताऊँ
खुशियों  से  तुझे   उर  से  लगा  लूँ 
दिल  का   दर्द   तुझे   कैसे   बताऊँ  **

-------------------------------------

संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई

 माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867

1 comment:

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |