11.6.20

कवि रामचन्दर '' आजाद '' की कविता - '' बेफिक्र मुसाफ़िर ''














बेफिक्र मुसाफ़िर

सिर   पर   गठरी   कंधे   गैंती,
कहाँ    जा    रहे    हो    राही  ।
सारा    शहर   लॉक   डाउन   है
तुम  पर  क्या  विपदा  आई  ।।

काम   काज   सब   बंद   पड़े  हैं
सभी   छिपे   हैं    अपने    घर ।
औद्योगिक   संस्थान   बन्द  हैं
कहाँ     चले    इतने    तत्पर ।।

इधर  न   कोई   नगर   शहर   है
इधर   न   कोई   गाँव   गिरांव ।
इतनी   भीषण   सी   गर्मी     में
कहां  तुम्हारा  छाँव   ठिकांव  ।।

डोर     कौन    सी    खींच     रही
जो   खिंचे   जा   रहे   हे  राही   ।
किस  मंजिल  की   आकांक्षा   में,
भूख     प्यास     भूले     भाई  ।।

कितनी    दूर    अभी    जाना    है
हे      सृजन     के     अधिकारी  ।
मेहनत   तो    हर    अंग   तुम्हारे
फिर     क्यों     इतनी    लाचारी ?

रुको,  रुको  कुछ  तो    बोलो  ना ।
कहाँ   चले   के   चले    जा   रहे  ।
क्या    घरवाली    की    चिट्ठी    से 
व्यथित  खिंचे  के  खिंचे  जा रहे।।

मुझे    न    जाना    नगर     शहर
और मुझे न औद्योगिक संस्थान।
कोरोना      के      महासमर      ने
लूट  लिया  है   मान अभिमान  ।।

अपने    हाथों    से    मैंने    जिस
नगर    शहर    को    चमकाया  ।
उसी  नगर  और  शह  ने मुझ पर
 भीषण    कहर    है   बरसाया  ।।

जिस   दुनिया   के   सम्मुख  मैंने
हाथ       नहीं       फैलाये      हैं  ।
आज    उसी    दुनिया    ने   देखो
रक्तिम     अश्रु     रुलाये     हैं  ।।

कोई    शहर    नहीं    जी   सकता
बिन    मजदूर    के     हे   भाई   !
भला    बताओ    कैसे    रहें   जब
बात     पेट     पर    है    आई   ।।

मंजिल    दूर    बहुत    है   भाई  ।
और   नहीं   कोई   पथ   साधन  ।
फिर    भी    जिसने   राह   सुझाई
उस प्रभु का शत शत अभिवादन।।

जिससे   आशा    मिली    निराशा
सब      स्वारथ      के      चोर   ।
निकल   पड़ा   हूँ   दृढ़   इच्छा  ले
अपने      गाँव      की      ओर  ।। **

                       - रामचन्दर 

-------------------------------------------

संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई

 माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867


3 comments:

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |