Followers

18.6.20

कवि श्रीकृष्ण शर्मा का गीत - ''छेड़ो मत ''

( कवि श्रीकृष्ण शर्मा के गीत - संग्रह - '' बोल मेरे मौन '' से लिया गया है )



















छेड़ो मत

छेड़ो मत , अपनी ही पीड़ा में खोया जो ,
फूट पड़ेगा , चुप है , अभी – अभी सोया जो ||


क्षत – विक्षत जो की हुआ
सुबह के लिए लड़कर ,
उसकी ही काया पर
लिपटे सौ – सौ विषधर ,


जिनको काँधे लेकर
शाही सम्मान दिया ,
पीते हैं वही रक्त
अब पिशाच सिर चढ़कर ;


पर उनको एक दिवस चखना ही होगा वो ,
उनने इस धरती में कालकूट बोया जो |


छेड़ो मत , अपनी ही पीड़ा में खोया जो ,
फूट पड़ेगा , चुप है , अभी – अभी सोया जो || **




 - श्रीकृष्ण शर्मा 







-------------------------------------------------------------------------------------

संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867


2 comments:

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |