Followers

1.2.20

पवन शर्मा की लघुकथा - '' टूटने पर ''

( प्रस्तुत लघुकथा – पवन शर्मा की पुस्तक – ‘’ हम जहाँ हैं ‘’ से ली गई है ) 
टूटने पर 

ठंडी रात ... सन्नाटे भरी ! कभी - कभी कुत्ते भौकने लगते हैं , कहीं दूर , गाँव के किसी कौने में , जिससे सन्नाटा भंग हो जाता है | गाँव लगभग सो चुका है  - वैसे भी गाँव में प्रायः सभी जल्दी सो जाते हैं| वे दोनों जाग रहे हैं | एक बूढ़ा आदमी और एक बूढ़ी औरत!जलती हुई लकड़ियों को घेरे बैठे हुए | लालटेन जल रही है धीमी ... बहुत धीमी ! लालटेन का पीला प्रकाश उन दोनों के चेहरों पर पड़ रहा है | बाहर ... ठंड ! ... सन्नाटा !!
          ' बड़का मिलो थो आज ... बजार में टकरा गओ | ' बूढ़ा  बोला |
          औरत चौंक जाती है |
          ' कुछ कह रओ थो ? '
          ' कुछ नई ... हाल - चाल भर पूछो थो बा  ने | बता दिए ... सब ठीक - ठाक है ... और का कहतो मैं | '
          ' बचवा के हाल - चाल पूछे रहे ? '
          ' कहवे लगो कि अम्मा की याद बेजा करत है | '
          ' काए नई करे ... दिन - रात तो मो से लिपटो रहत थो | बाक़ी दादी जो हूँ | जब से अलग भओ है , तब से सूरत नई दिखाई ... | '  बूढ़ी औरत की आवाज पिघलने लगती है , ' लगत है , अपनी माँ ऐ भी भूल गओ | नई तो सूरत तो दिखा ही सकत है | और कछू कह रओ थो ? ... बहू कैसी है ? ... पूछे थे ? '
          ' तू फिर काए के लाने मर रही है बाक़ी याद में| 'बूढ़े की आवाज में हल्का क्रोध था |
          ' मौड़ा है मेरो ... जा के मारे | ' बूढ़ी औरत की आवाज भीग रही थी , नम ... ओस की बूंद की तरह |
          ' ऐसो मौड़ा भी का काम को | बुड्ढे - बुढ़िया ऐ अकेलो छोड़ दओ , और मेहरिया के कहवे पे अलग रहन लगो | जानत है , आज कह रओ थो कि ... |  बूढ़े की आवाज तल्ख़ होने लगी , ... ' कि खेत में से मेरो हिस्सा मोए दे दो , तो बाय बेच के कछू धंधा कर लेऊँ | ' 
          अचानक जलती हुई लकड़ी चटक उठी|सन्नाटा क्षण भर के लिए भंग हो गया था |

                                                   - पवन शर्मा 

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------

पवन शर्मा
लघुकथाकार , कहानीकार , कवि  

 पता
श्री नंदलाल सूद शासकीय उत्कृष्ट  विद्यालय ,
जुन्नारदेव  , जिला - छिन्दवाड़ा ( म.प्र.) 480551
फो. नं. - 9425837079 .
ईमेल – pawansharma7079@gmail.com

संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867


No comments:

Post a comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |