6.4.20

पवन शर्मा की लघुकथा - '' एडजस्टमेंट ''




                          ( प्रस्तुत लघुकथा – पवन शर्मा की पुस्तक – ‘’ हम जहाँ हैं ‘’ से ली गई है ) 


                               एडजस्टमेंट 

          ' इस मकान में अपन लोग ठीक जम गए हैं | खुली छत है ,अच्छी हवा आती है | उस मकान में तो उबल जाते थे गर्मी के मारे | '  पति की बगल में तारों भरे आकाश के नीचे लेटी हुई पत्नी ने कहा |
          ' हाँ ... सो तो है | किराया भी तो उस मकान से दुगना है | '  पति बोला |
          ' दुगना है तो क्या हुआ ! सारी सुविधाएँ तो हैं इस मकान में | '
          ' अब अपन को बहुत संभल - संभलकर खर्च करना पड़ेगा | कई बेकार के खर्चों पर नियंत्रण करना पड़ेगा | नहीं तो मुसीबत ही है | शहर में मकान का किराया ही इतना होता है कि तनख्वाह की आधी रकम उठाकर दे दो | '  पति चिन्तित था , शायद भविष्य के बारे में | उसने सिगरेट का कश खिंचा और फैंक दी |
          ' सो तो है ... फिर कौन से खर्चों पर नियंत्रण करें ? '  पत्नी के स्वर में हल्की झल्लाहट थी |
          ' ऐसे ही बेकार खर्चों पर  - जैसे मेहरी नहीं रखेंगे ... एक किलो दूध की जगह आधा किलो दूध से काम चलाएंगे ... अखबार लेना बन्द ... महीने में दो की जगह एक पिक्चर ... आदि - आदि ... ऐसे ही तो एडजस्ट करना पड़ेगा | '  उसने दूसरी सिगरेट जलाने के बाद पत्नी की ओर देखा |
          पत्नी ने कसमसाते हुए कहा ,  ' ... और सिगरेट की आँच में अपन लोग चाय बना लिया करेंगें ... है न ! '
          आकाशगंगा की रेखा दोनों के बीच स्पष्ट दिखने लगी थी |

                                 - पवन शर्मा 
------------------------------------------------------------------------------

पवन शर्मा
कवि , कहानीकार , लघुकथाकार 



पता
श्री नंदलाल सूद शासकीय उत्कृष्ट  विद्यालय ,
जुन्नारदेव  , जिला - छिन्दवाड़ा ( म.प्र.) 480551
फो. नं. - 9425837079 .
ईमेल – pawansharma7079@gmail.com


संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867

No comments:

Post a comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |