Followers

13.4.20

नंगी दीवारें


                 ( प्रस्तुत कविता- पवन शर्मा की पुस्तक -'' किसी भी वारदात के बाद '' से ली गई है )

                  नंगी दीवार 

दरवाज़ा पुश करके वह अन्दर घुस गया | उसे देख उनकी भौंहें तिरछी हो गईं , ' अब तुम ऑफिस में भी आने लगे ! '
          ' आना ही पड़ेगा | '  वह ढीठ होकर कुर्सी पर बैठ गया |
          यहाँ नहीं आना चाहिए तुम्हें | '  उन्होंने उसके चेहरे पर नजरें गड़ा दीं |
          ' डर लगता है ! '
          वे कुछ नहीं कहते |
          ' इस लिए कि किसी को पता न चल जाए - इमेज बिगड़ सकती है ... है न ! '
          उन्होंने उसके चेहरे से नजरें हटा लीं | पूछा ,  ' क्या काम है ? '
          ' वो वहाँ पेट फुलाए बैठी है|डिलीवरी होने को है|कभी भी हो जाए | '
          उन्होंने गुस्से में उसकी ओर देखा और जेब से पर्स निकालकर सौ - सौ के कुछ नोट उसकी ओर बढ़ाये और बोले , ' लो रखो | '
          नोट लेकर उसने गिने और बोला , ' इतने में काम नहीं चलेगा | '
          ' सचमुच बहुत कमीने हो ! ' उसकी बात सुनकर उन्होंने दांत पीसे |
          अचानक उसके चेहरे पर सख्ती उभर आई और बोला ,  ' हमसे अधिक कमीने तुम हो - सफेदपोश ! ... अपनी कामान्धता के पीछे गाँव की उस भोली - भाली लड़की की इज्जत तो तुमने कहीं की नहीं रखी | अब फसे हो तुम उसकी गिरफ्त में | तडफड़ा रहे हो मुक्त होने के लिए ... किन्तु मुक्ति नहीं मिलेगी तुम्हें | ' 
          उसके जाने के बाद वे ऑफिस की दीवारों को बड़ी गहरी नजरों से घूर रहे थे - जैसे दीवार पूर्णरूप से नंगी हो | **

   - पवन शर्मा 
-------------------------------------------------------------- 
  











पता
श्री नंदलाल सूद शासकीय उत्कृष्ट  विद्यालय ,
जुन्नारदेव  , जिला - छिन्दवाड़ा ( म.प्र.) 480551
फो. नं. - 9425837079 .
ईमेल – pawansharma7079@gmail.com

संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867

3 comments:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा शनिवार(२५-०४-२०२०) को 'पुस्तक से सम्वाद'(चर्चा अंक-३६८२) पर भी होगी
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का
    महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    **
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  2. जब सच की पोल खुल जाती है तो दीवरें भी नग्न हो जाती हैं
    बहुत खूब।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर लघुकथा।

    ReplyDelete

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |