9.12.19

नहीं कुछ होने वाला है

कवि श्रीकृष्ण शर्मा के गीत - संग्रह - '' बोल मेरे मौन '' से लिया गया है -


नहीं कुछ होने वाला 

नहीं , अब रहनुमाओं से नहीं कुछ होने वाला है  ||

कि धोखेबाज - खुदगर्जों के सीने हो गये पत्थर ,
इबादत या सदाओं से नहीं कुछ होने वाला है |
नहीं अब रहनुमाओं से नहीं कुछ होने वाला है ||

मची जद्दोजहद है और अफरा और तफरी है ,
बड़ों को राजपथ , छोटों की गलियों किन्तु सँकरी हैं ;
बड़ों के लिए पौबारह हैं ,चौके  और छक्के हैं ,
कि साधारण जनों को गम हैं , आँसू और धक्के हैं ;

चटख रंग ज़िन्दगी के आज मैले और फीके हैं ,
कि होते नित - नये ईजाद शोषण के तरीके हैं ;

यहाँ से वहाँ तक बहुरूपिये , ठग और हत्यारे ,
नहीं  ख्वाजासराओं से नहीं कुछ होने वाला है |
नहीं , अब रहनुमाओं से नहीं कुछ होने वाला है ||

                              - श्रीकृष्ण शर्मा 
---------------------------------------------------------------------------------
* हरम का रखवाला हिजड़ा 

संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867

No comments:

Post a Comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |