31.12.19

याद किसी की


कवि श्रीकृष्ण शर्मा के नवगीत संग्रह - '' बोल मेरे मौन '' से लिया गया है )


याद किसी की 

याद किसी की लेकर जाने 
मन क्यों भारी आज हो उठा ?
उलझ किन्हीं मीठी सुधियों में ,
खुद को ही मैं आज खो उठा !!

भूल गया मैं सब कुछ अपना ,
याद रहा बस केवल तपना ,
तप - तपकर साँसों का घुटना ,
बनकर वाष्प गगन में उठना ,

फिर ठंडी बदर्द कसक का ,
मिलकर चोट मर्म पर करना ,
सहन नहीं कर मेघों - जैसा ,
नयनों का झर - झर झर पड़ना ,

किन्तु सभी कह उठे - ' देखो ,
देखो , पागल आज रो उठा !
याद किसी की लेकर जाने 
मन क्यों भारी आज हो उठा ? ' 

          - श्रीकृष्ण शर्मा 
-------------------------------------------------------




संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867


No comments:

Post a comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |