27.12.19

पवन शर्मा - '' षड़यंत्र ''

प्रस्तुत लघुकथा – पवन शर्मा की पुस्तक – ‘’ हम जहाँ हैं ‘’ से ली गई है )


    षड्यंत्र

वह देख रहा है | दद्दा को सभी घेरे हुए बैठे हैं | अम्मा , उसकी दोनों बहनें ... सीमा और लता और छोटा भाई ... विनोद | बीच में बैठे दद्दा बतिया रहे हैं | दद्दा अभी - अभी लौटे हैं |
' कितेक के यहाँ गए थे ? ' अम्मा पूछती हैं |
' कईन के यहाँ | ' दद्दा ने बताया |
. कछू जमी ? '
' जमी का ... फोटो ले आया हूँ |' दद्दा ने कहा और बैग में से चार फोटो निकाल कर अम्मा की ओर बढ़ा दीं | अम्मा के पास जाने से पहले सीमा और लता ने फोटो झपट लीं | फोटो देख कर उन दोनों के चेहरे पर प्रसन्नता छा गई | विनोद भी झुककर देखने लगा |
' अम्मा , जे ठीक है |' सीमा बोली |
' नई अम्मा , जे ठीक है |' लता बोली |
वह कुछ नहीं बोला | उसे ये सब तमाशा लग रहा था | अब अम्मा भी फोटो देखने लगीं | दद्दा कह रहे थे , कमीज उतारते हुए , ' मैनें तो हरेक के यहाँ जे कही कि साठ एकड़ खेत है ... ट्रेक्टर चल रओ है ... गाय - बैल - सब - कुछ है , कोई कमी नई है मोए ! बस , मौड़ी भर ठीक होनी चाहिए | और कहो कि मेरो मौड़ा एम.ए.फ़ाइनल में है जे साल ... और मौड़न से सीधो .. कोई ऐब नई है बामे ... चाहे तो चल के देख लेओ |' दद्दा थोड़ी देर रुके , बीडी सुलगाई , फिर बोले , ' जे ऊपर वाली फोटो है न .. जाके बाप ने कहो कि ब्याह में कोई - कसर नई रखूँगो ... आवभगत पूरी ... पच्चीस हजार देवे कूं भी बोलो है | मैं सोच रओ हूँ कि जई के साथ पक्की कर देऊँ | और जे नीचे वाली फोटो है न .. जा के बाप ने बीस तक की बात की  ... | ' दद्दा ने कहा और बीडी में जोर से सुट्टा मारा और हलक से ढेर सारा धुआं उगल दिया | ' अब तो जई के ऊपर है कि जाय कौन - सी मौडी पसंद है |' अम्मा बोली |
वह मन - ही - मन सुलगने लगा |
' काए रे , कौन सी ठीक है ? ... देख ले ... तू भी देख ले ... नई तो बाद में हमें ही दोष दे ... बता दीइये ... परों तक जवाब भेजनो है |' दद्दा बोले |
वह देखता है कि सीमा और लता आपस में धीरे - धीरे कुछ बात कर रहीं हैं ... विनोद भी उनमें ही जा मिला है ... अम्मा भी उठ कर दद्दा के पास जा बैठीं हैं ... उसे लगा ... घर में सभी उसके विरुद्ध षड्यंत्र कर रहे हैं ... क्या दद्दा ... क्या अम्मा ... क्या सीमा ... क्या लता ... क्या विनोद ... सब |
' मोए इतनी जल्दी कए के लाने बेच रहे हो दद्दा |' बोलते हुए विद्रूपता उसके चेहरे पर तैर आई |

                              - पवन शर्मा 
--------------------------------------------------------------------------------------------
पवन शर्मा ( कवि , लघुकथाकार )
पता –
श्री नंदलाल सूद शासकीय उत्कृष्ट  विद्यालय ,
जुन्नारदेव  , जिला - छिन्दवाड़ा ( म.प्र.) 480551
फो. नं. - 9425837079 .
ईमेल – pawansharma7079@gmail.com 

संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिला– सवाई माधोपुर  ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867

No comments:

Post a comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |