Followers

26.1.21

कवि संगीत कुमार वर्णबाल की कविता - " मातृभूमि "

 

मातृभूमि है भारत अपना
दुनिया में है सबसे न्यारा
ऋषि संतो की धरती भारत
मंदिर घाटो की स्थली भारत
ज्ञान विज्ञान की पहचान भारत
सभ्यता की जननी है भारत
वीर सपूतो की धरती भारत
धरती का स्वर्ग है भारत
विविधता में एकता की स्थली भारत
योग आयुर्वेद की भूमि भारत
दूनिया को पाठ पढाती भारत 
विश्व पटल का सौन्दर्य भारत
पर्वत पठारो से भरा परा
नदि नहर से हरा भरा
खेत खलिहान से सजाधजा
सुगंध से संसार को महका रहा
मानचित्र पर खूब दिख रहा
मातृभूमि है भारत अपना
दूनियां में है सबसे न्यारा  **

   - संगीत कुमार वर्णबाल 

------------------------------

संकलन – सुनील कुमार शर्मा , जवाहर नवोदय विद्यालय , जाट बड़ोदा , जिला – सवाई माधोपुर ( राजस्थान ) , फोन नम्बर – 9414771867.


No comments:

Post a comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |