Followers

10.12.20

कवि देवेन्द्र शर्मा ' इन्द्र ' - “ ते हि नो दिवसाः गताः ” और “ फागुन के हस्ताक्षर ” - ( भाग - 3 )

 

श्रीकृष्ण शर्मा की पुस्तक - " फागुन के हस्ताक्षर " से लिया गया है - 





“ते हि नो दिवसाः गताः” और “फागुन के हस्ताक्षर”


...उनके व्यवहार में कुछ ऐसी आत्मीयता , सरलता , निश्छलता और मर्मस्पर्शी भावुकता है जो अपने रस – चक्र में जिस व्यक्ति को एक बार बाँध लेती है , वह जीवन भर के लिए उनका अभिन्न होकर रह जाता है | ...


( भाग – 3 )

 

उनके व्यवहार में कुछ ऐसी आत्मीयता , सरलता , निश्छलता और मर्मस्पर्शी भावुकता है जो अपने रस – चक्र में जिस व्यक्ति को एक बार बाँध लेती है , वह जीवन भर के लिए उनका अभिन्न होकर रह जाता है | वेदना , पीड़ा , अभाव और विविध प्रकार की यातना – यंत्रणाओं की आँच में तपाकर उन्होंने अपने आचरण को स्पृहणीय और अनुकरणीय बनाया है | उनके अन्तर्मन में करुणा की जो निर्मल – शीतल स्रोतस्विनी प्रति पल प्रवाहित होती रहती है , वह अपने संस्पर्श मेरे जैसे न जाने कितने दुःख – दग्ध व्यक्तियों को अभिषिक्त नहीं करती ? सर्वश्री जगतप्रकाश चतुर्वेदी , सोम ठाकुर , चौधरी सुखराम सिंह , गोकुल चन्द्र अग्रवाल और मुझ सरीखे कतिपय व्यक्तियों को लेकर जैसी गीत – पुष्पान्जलियों की रचना श्रीकृष्ण शर्मा ने की है , वैसी हममें से कितने कर सकते हैं ? यह वही कर पाता है , जिसका ह्रदय आकाश – सा विस्तृत , समुद्र – सा गंभीर , धरती – सा सहिष्णु , हिमवान – सा द्रवणशील और विन्ध्याचल – सा दृढ़ और उदार तथा उदात्त हो | काश हमने उनकी इन ‘ स्टर्लिंग केरेक्टरिस्टिक्स ’ को स्वायत्त किया होता ! ऊँचे – से – ऊँचे स्तर की प्रतिभा और कला के स्वामी होकर भी हम पारस्परिक प्रतिस्पर्धा और अकारण विद्वेष का दम्भ पालते हुए एक – दूसरे को अस्वीकारते – नकारते रहे | इस दृष्टी से भाई श्रीकृष्ण शर्मा अजातशत्रु हैं | उनकी यह अजातशत्रुता प्रणम्य और नन्दनीय – वन्दनीय है |

          1958 में जब ‘ ताज की छाया में ’ शीर्षक कविता – संग्रह का हम लोगों ने संपादन किया था तब उन्होंने अपना व्यक्तित्व एवं काव्यगत परिचय देते हुए लिखा – “ बचपन में ही पिताजी का स्वर्गवास हो गया था इस लिए माँ ने बड़े कष्ट उठाकर इस योग्य किया कि जीविका कमा सकूँ | पढ़ाई के नाम पर इण्टर हूँ | क्लर्क , टाइपिस्ट , लाइब्रेरियन , प्रूफरीडर आदि रहने के बाद इस समय शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश के अन्तर्गत भोपाल के एक गाँव साँचेत में अध्यापक हूँ | गद्य कतई नहीं लिखा , पता नहीं कविता कैसे लिखने लग गया हूँ | कविताओं का अविकल प्रवाह सन 50 से आरम्भ होता है और अब तक लगभग ढाई सौ कविताएँ लिखी हैं , जिनमें गीत अधिक हैं | सर्वप्रथम गीत ‘ धर्मयुग ’ साप्ताहिक के 29 अगस्त ’54 अंक में प्रकाशित हुआ था | तब से हिन्दी की प्रमुख पत्र – पत्रिकाओं में जब – तब कविताएँ प्रकाशित होती ही रहती हैं | ”  इन पंक्तियाँ को उद्घृत करते समय मेरी मंशा यही बताने की रही है कि श्रीकृष्ण ने अपने जीवन को कल्पना के पंख फैलाकर उड़ने की अपेक्षा अभावों के कंकरीले – पथरीले रास्तों पर नंगे पाँव धूप में जल कर और चल कर जिया है , कि उनका भाव – जगत पल – पल पर अभावों से आहत और क्षत – विक्षत रहा है , कि वे मूलतः गीतात्मक संवेदना के रचनाकार हैं , कि उनकी प्रारम्भिक साहित्यिक पहचान ‘ धर्मयुग ’ जैसे अखिल भारतीय लोकप्रियता और स्वीकृतिप्राप्त पत्र के माध्यम से हुई थी | उन दिनों ‘ धर्मयुग ’ छपना सर्वोत्कृष्ट साहित्यिक निकष माना जाता था |

          पिछले 45 वर्षों में देश और दुनियाँ में जहाँ तरह – तरह के युगान्त और युगान्तकारी परिवर्तन हुए , वहाँ श्रीकृष्ण के निजि जीवन में भी कई मोड़ आये | आज वे एक एम. ए. , बी. एड. किये , उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के सेवानिवृत्त प्राचार्य हैं | वे एक भरे पूरे परिवार के ज्येष्ठ – प्रमुख हैं | अपने बेटे – बेटियों की शिक्षा – दीक्षा और शादी – विवाह के दायित्वों का उन्होंने यथाविध परिपालन किया है | लखनऊ स्थित छोटी विधवा बहन के पारिवारिक योग – क्षेम का वहन भी वे तत्पर भाव से करते हैं | जिला छिन्दवाड़ा के अन्तर्गत जुन्नारदेव कस्बे में उन्होंने अपनी स्थायी – आवास व्यवस्था भी कर ली है | इतना ही नहीं , **

( आगे का , भाग – 4 अवश्य पढ़ें )

                  - देवेन्द्र शर्मा ' इन्द्र '


--------------------------------------------------------------------------------------------------------------


संकलन – सुनील कुमार शर्मा , जवाहर नवोदय विद्यालय , जाट बड़ोदा , जिला – सवाई माधोपुर ( राजस्थान ) , फोन नम्बर – 9414771867.


          




No comments:

Post a comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |