5.9.20

लघुकथाकार पवन शर्मा की लघुकथा - " आग "



पवन शर्मा 



                       आग

उसने दो रूपये का नोट निकालकर मोंटू के हाथ में थमाया और कहा ,  ‘ जल्दी में कोई चीज नहीं ला पाया ... ले लेना | ’  फिर भाभी के पाँव छुए और बाहर निकल आया |
          बाहर निकलते हुए भैया बोले, ‘ चल, तुझे बस स्टैंड तक पहुँचा दूँ |’
          ‘ मैं निकल जाऊँगा | आपके ऑफिस का समय हो रहा है | ’
          ‘ चल तो | ’
          भैया ने सड़क पर चलते – चलते पूछा ,  ‘ तेरा पोस्ट – ग्रेजुएशन पूरा हो गया ? ’
          ‘ हाँ | ’  उत्तर देते हुए वह विस्मित हो गया |
          ‘ अब आगे ? ’ 
          ‘ कुछ नहीं ... पूरी तरह घर पर बैठा हूँ | ’  कहते – कहते वह भीतर तक सिकुड़ गया |
          ‘ अम्मा और बाबू कैसे हैं रे ? ’  भैया ने पूछा |
          उसके भीतर भक्क से आग लगती है | पूरे तीन दिन से इनके यहाँ हूँ – अब चलते वक्त पूछ रहे हैं !
          ‘ ठीक हैं | ’  उसने अपने भीतर की आग दबाई |
          बस स्टैंड में घुसते हुए वह कहता है ,  ‘ बाबूजी कह रहे थे कि अब तीन सौ से घर का खर्चा नहीं चल पाता है – कुछ और भेज दिया करें | ’
          सामने खड़ी बस का नम्बर देख भैया कहते हैं , ‘ यही बस जायेगी | तू यहीं रुक – मैं टिकिट लेकर आता हूँ | ’
          उसे लगा कि भैया ने उसकी बात सुनी ही नहीं है – उसके भीतर की आग फिर से सुलगती है |
         थोड़ी देर बाद भैया हाथ में टिकिट लिए लौटे और बोले ,  ‘ तू बस में बैठ | मैं चलता हूँ | ’
         उसे टिकिट थमाते हुए भैया ने जेब में से पचास रुपये का नोट निकाला और उसकी ओर बढ़ाया ,  ‘ ले ... रख ले ... काम आएँगे | ’  भैया थोड़ी देर चुप रहे , फिर बोले , ‘ बाबूजी से कहना कि शहर में तो पानी भी खरीद कर पीना पड़ता है | ’
          उसके भीतर की आग न जाने क्यों एकदम ठंडी पड़ गई थी | **  

                 - पवन शर्मा  
                श्री नंदलाल सूद शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय ,
                        जुन्नारदेव , जिला - छिन्दबाड़ा ( मध्य प्रदेश )
                        पिन कोड - 480551 
                        फोन नम्बर - 9425837079  

------------------------------------------------------------------

संकलन – सुनील कुमार शर्मा , जवाहर नवोदय विद्यालय , जाट बड़ोदा , जिला – सवाई माधोपुर ( राजस्थान ) , फोन नम्बर – 9414771867.

2 comments:

  1. धन्यवाद भाई सुनील जी 🙏🙏

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |