12.10.19

'' कौन तुम हो ''

( कवि श्रीकृष्ण शर्मा के नवगीत संग्रह - '' बोल मेरे मौन '' से लिया गया है - )



   







'' कौन हो तुम ''

       आज भी क्यों मौन तुम हो ?

       क्यों उमड़ता दर्द मेरे वास्ते ही ?

       जबकि मेरे बंद हैं सब रास्ते ही |
       क्यों घुमड़ते आ रहे हो बादलों - से ?
       तप रहे जब प्राण ज्यादा मरुथलों - से |

       प्रीति बरसा क्यों रहे हो 

       जिन्दगी पर ?
       नेह के जलधर ,
      बताओं , कौन हो तुम |
      आज भी जो मौन तुम हो !

     आज भी क्यों मौन तुम हो ?


                     - श्रीकृष्ण शर्मा 
**********************
  www.shrikrishnasharma.com
  shrikrishnasharma696030859.wordpress.com 
                              
संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिला– सवाई माधोपुर ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867 
                                                                   

                                                  










1 comment:

  1. ( कृपया इसे पढ़ कर अपने विचार अवश्य लिखें | आपके विचारों का स्वागत है| धन्यवाद | )

    ReplyDelete

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |