7.10.19

'' अम्माँ के प्रति ''

कवि श्रीकृष्ण शर्मा के नवगीत संग्रह - '' बोल मेरे मौन '' से लिया गया  है - )






      




 
अम्माँ के प्रति 


आ रही अम्माँ तुम्हारी याद वह ममता !!

जिन्दगी के दर्द में भीगा तुम्हारा स्नेह ,
दुखों का दरपन तुम्हारी झुर्रियाँ औ देह ,
देख हमको झलकता बुझते दृगों में नूर ,
तुम रहीं संजीवनी , आग्नेय दिन थे क्रूर ;

हम हँसें , तुम अश्रु पी बोती रही थीं हास ,
तम सदा खुद , मिले हमको ज्योति का आकाश ;

और अन्तिम साँस तक खट कर धुआँ होते ,
होंठ पर थीं बस दुआएँ , कह न करुण कथा !

आ रही अम्माँ तुम्हारी याद वह ममता !!

                                  -  श्रीकृष्ण शर्मा 
******************************
www.shrikrishnasharma.com
shrikrishnasharma696030859.wordpress.com

संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई माधोपुर,राजस्थान,फोन नम्बर– 09414771867 



No comments:

Post a comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |