1.11.19

'' लम्बे समय बाद बिटिया को देख कर ''

( कवि श्रीकृष्ण शर्मा के काव्य - संग्रह - '' अक्षरों के सेतु '' से ली गई 1979 की रचना )
















'' लम्बे समय बाद बिटिया को देख कर ''

एक सहज सुख से आँखे भर आयीं ,
जब लम्बे अरसे बाद 
तू घर आयी |

देखकर तुझे ,
मन 
इतना तन्मय था 
इतना चुप था 
और इतना नम था 
जैसे - सैकड़ों निर्झरों का उद्गम था |

इतने दिनों बाद 
तुझे देखकर लगा , जैसे -
बन गया हो जेठ का आकाश 
अषाढ़ी बादलों का सपना 
अथवा 
आत्मजात दूर्वा से 
हो गयी हो काष्ठ - धरती 
एक जीवित अल्पना |

          - श्रीकृष्ण शर्मा  
****************************************
(आपके Like,Follow,Comment का स्वागत् है | धन्यवाद | )

shrikrishnasharma696030859.wordpress.com

संकलन - सुनील कुमार शर्मा, पी.जी.टी.(इतिहास),जवाहर नवोदय विद्यालय,जाट बड़ोदा,जिलासवाई माधोपुर ( राजस्थान ),फोन नम्बर– 09414771867




No comments:

Post a comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |