Followers

6.2.21

कवि अभिषेक जैन की कविता - " ये कैसा है माहौल "

 











ये कैसा है माहौल


ये कैसा है माहौल
जिसमें नफ़रते
बढ़ रहीं हैं
और घट रहा है
दिलो का प्यार
हो रही है उस जायदात
के लिए लड़ाईयां
जो साथ
किसी के नहीं जानी
है
जाना है
जो वो
ही भूला बैठे
नफरतें खूब बढ़ा गई है
और वो प्यार गंवा बैठे हैं  **


            - अभिषेक जैन

                           पथरिया दमोह
                           मध्यप्रदेश

------------------------------------------------------------------------

संकलन – सुनील कुमार शर्मा , जवाहर नवोदय विद्यालय , जाट बड़ोदा , जिला – सवाई माधोपुर ( राजस्थान ) , फोन नम्बर – 9414771867.



No comments:

Post a comment

आपको यह पढ़ कर कैसा लगा | कृपया अपने विचार नीचे दिए हुए Enter your Comment में लिख कर प्रोत्साहित करने की कृपा करें | धन्यवाद |